Country

दिल्ली पुलिसः ने किया मिर्ची गैंग का भंडाफोड़

दिल्ली पुलिस ने मिर्ची गैंग का भंडाफोड़ करके दो ऐसे बदमाशों को गिरफ्तार किया है जो पहले भीड़ भाड़ वाले इलाको में अपने टारगेट को चुनते थे फिर मौका देखकर टारगेट के शरीर पर लाल मिर्च या खुजली पाउडर छिड़ककर चोरी और लूटपाट की वारदातों को अंजाम देते थे। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान 61 वर्षीय छवि गुवाला और 30 वर्षीय मंजीत गुवाला के रूप में हुई है। दोनों वेस्ट बंगाल के रहने वाले हैं। आरोपियों के अनुसार मिर्ची गैंग दिल्ली में अभी तक ऐसी 5 6 वारदातों को अंजाम दे चुका हैं। आरोपित वारदात की रकम को बैंक से बंगाल में अपने रिश्तेदारों को भेज दिया करते थे।

उत्तरी जिला डीसीपी सागर सिंह कलसी के मुताबिक, शिकायतकर्ता केशव ढींगरा ने बताया कि वह 10 दिसंबर को स्कूटी से खारी बावड़ी जा रहे थे। अचानक उनकी गर्दन के पास तेज जलन होने लगी स्कूटी साइड में खड़ी कर गर्दन को पानी से धोने लगे। इसी बीच किसी ने उनकी स्कूटी की डिग्गी में रखे पांच लाख रूपये चोरी कर लिये है। पीड़ित की शिकायत पर थाना लाहौरी गेट में एफआईआर संख्या 360/21 अन्डर सेक्शन 379/34 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की गई।

उत्तरी जिला डीसीपी सागर सिंह कालसी ने दिनदहाडे भरे बाजार में हुई चोरी की वारदात को जल्द से जल्द सुलझाने और आरोपियों को दबोचने के लिए अक्षत कौशल एसीपी कोतवाली की सुपरविजन और विजेंदर राणा एसएचओ थाना लाहौरी गेट के नेतृत्व में एसआई मनमीत मलिक, हेडकांस्टेबल भारत, बिजेंदर, राजेंदर, कांस्टेबल सचिन की एक टीम का गठन किया।

आरोपियों की पहचान के लिए जाँच टीम ने सबसे पहले वारदात स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला। क्राइम स्पॉट के रूट को टेक्निकल सर्विलांस की मदद से एनालिसिस किया गया। मुखबिरों का जाल बिछाया।

बताते चले तो 15 दिसंबर 2021 को इलाके में ऐसे अपराधियों की गतिविधियों के बारे में जांच टीम को गुप्त जानकारी मिली। सूचना मिलने पर पुलिस टीम हरकत में आई और दिल्ली के फतेहपुरी चौक पर जाल बिछाकार दो लोगों को धर दबोचा। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान 61 वर्षिय छवि गुवाला और 30 वर्षिय मंजीत गुवाला के रूप में हुई। पूछताछ में दोनों आरोपियों ने स्कूटी की डिक्की से पैसे चोरी करने की बात कबूल कर ली। तलाशी में आरोपियों के पास से चोरी के पैसों में से बचे 15000 रूप्ये और स्कूटी की डिक्की का ताला तोड़ने के औजार बरामद हुये।

दोनों आरोपितों ने पहले पुलिस को हिंदी बोल पाने की बात कही लेकिन कुछ देर बाद आरोपी हिंदी नहीं जानने का बहाना बनाकर जांच टीम को गुमराह करने लगे। पुलिस टीम ने गिरोह के सदस्यों के साथ संवाद करने के लिए दुभाषिया की सेवा ली।
पूछताछ में दोनों आरोपियों ने खुलासा किया कि वे अंतरराज्यीय मिर्ची गैंग के सदस्य हैं। सभी सदस्य पश्चिम बंगाल के जलपाई गुरी के रहने वाले हैं। आरोपियों ने आगे बताया कि उनका गैंग दिल्ली में अभी तक ऐसी 5 6 वारदातों को अंजाम दे चुका हैं। पकड़े गए दोनों आरोपित अनपढ हैं। आरोपी 10 15 दिन पहले ही ट्रेन से दिल्ली आए थे और आनंद विहार इलाके में किराए पर रह रहे थे।

गिरफ्तार मिर्ची गैंग के आरोपियो ने बताया कि उनके सदस्य पहले ट्रेन से अलग अलग शहरों का दौरा करके शहर के व्यस्त बाजारों में अपने टारगेट को चुनकर चोरी और लूट की वारदातों को अंजाम देते है। आरोपियों ने बताया की टारगेट के चेहरे या पीट पर धोखे से लाल मिर्च या खुजली पाउडर छिड़क देते हैं। जब टारगेट शरीर के खुजली वाले हिस्से को धोने में व्यस्त हो जाता है, तो गिरोह के सदस्य टारगेट का कीमती सामान चोरी करके फरार हो जाते है।

आरोपियों ने यह भी बताया कि उनका गैंग अपने टारगेट का ध्यान भटकाने के लिए सड़क पर नोट और पैसे डाल देते है। उनका टारगेट जब सड़क पर पड़े पैसे उठाने जाता है तो गैंग के सदस्य मौका देखकर टारगेट का कीमती सामान चोरी करके फरार हो जाते है।

वहीँ उत्तरी जिला डीसीपी सागर सिंह कालसी ने बताया कि आरोपित वारदात की रकम को बैंक से बंगाल में अपने रिश्तेदारों को भेज दिया करते थे। फिलहाल पुलिस आरोपितों के अन्य साथियों की तलाश कर रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

COVID-19

India
Confirmed: 37,122,164Deaths: 486,066