21/10/2021
HAMIRPUR

राष्ट्रीय ध्वज के नाम पर ठगी करने वाले पर हो कारवाही, झूठ बोल रहा है एनएसयूआई का छात्र नेता, आम आदमी पार्टी ने लगाए आरोप

जिला हमीरपुर के बाल स्कूल मैदान पर राष्ट्रीय ध्वज लगाने के नाम पर चंदा डकारने वाले का आम आदमी पार्टी ने सबूतों और तथ्यों के आधार पर पर्दाफाश किया है| इस पर पत्रकार वार्ता करते हुए आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सुनील कुमार गोल्डी ने कहा कि कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई ने पिछले साल मार्च महीने से जिला हमीरपुर के तत्कालीन जिलाध्यक्ष टोनी ठाकुर जो अभी प्रदेश सचिव के पद पर तैनात है कि अध्यक्षता में मिशन तिरंगा नाम का एक अभियान चलाया था| इस अभियान के अंतर्गत टोनी ठाकुर ने हमीरपुर के बाल स्कूल के मैदान में राष्ट्रीय ध्वज लगाने के लिए तिरंगे के नाम पर चंदा इकट्ठा किया था| उन्होंने कहा कि तिरंगे के नाम पर मिशन तिरंगा अभियान चलाकर जो चंदा इकट्ठा किया था उस चंदे को किसी भी सरकारी कार्यालय में जमा नहीं करवाया है तथा उन्होंने उस चंदे को डकार लिया है| आम आदमी पार्टी ने 22 फरवरी को इस मुद्दे को उठाया था उसके कुछ देर बाद ही ठगी करने वाले ने फेसबुक के माध्यम से
ब्यान दिया जिसमें उन्होंने कहा कि उन्होंने 1500 रु डीसी कार्यालय में जमा करवा दिए है जबकि हकीकत ये है कि उन्होंने ये पैसा 23 फरवरी को तब जमा करवाया जब आम आदमी पार्टी ने 22 तारीख को इस मुद्दे को उठाया| जब टोनी ने ये पैसा 23 तारीख को जमा करवाया तो उन्होंने प्रेस के सामने 1200-1300 सिक्को के रुपये में दर्शाए है तथा इस चंदे में एक भी नोट नहीं है| ये सरासर राष्ट्रीय ध्वज के नाम पर ठगी की गई है| क्यों एक साल तक ये पैसा किसी सरकारी कार्यालय में जमा नहीं करवाया? गोल्डी ने कहा कि उसके बाद टोनी ने कहा कि उसने 1700 रूपये जमा करवाए है| ठगी करने वाले के बयान लगातार बदल रहे हैं जिससे साफ जाहिर हो रहा है कि उसने इस मिशन में मिले चंदे को डकारा है| गोल्डी ने मिडिया में मिशन तिरंगा के दौरान खींची गई एक तस्वीर को साझा किया जिसमें एक व्यक्ति नोट के रूप में चंदा दे रहा है| चंदे के रूप में मिले नोट कहाँ है?
ये छात्र संगठन वही छात्र संगठन है जो तिरंगा सलाम का नारा देता है परंतु तिरंगे के नाम पर ही अपने घर भरने का काम कर रहा है| गोल्डी ने कहा कि जब ये मिशन शुरू किया गया था तब उक्त छात्र नेता हमीरपुर जिलाध्यक्ष पद पर था तथा अब प्रदेश सचिव के पद पर है ऐसे में यहाँ ये सवाल उठता है कि राष्ट्रीय ध्वज के नाम पर चंदा खाने वाले को इस छात्र संगठन ने पदोन्नति कैसी दी? क्या इस चंदे का कुछ हिस्सा संगठन को भी दिया गया है? इसकी निष्पक्ष जाँच होनी चाहिए| लगभग इस मिशन के नाम पर एक साल से चंदा लिया जा रहा है परंतु वह पैसा जा कहाँ रहा है इसका कोई अता पता नहीं है| गोल्डी ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील करते हुए कहा कि राष्ट्रीय ध्वज के नाम पर लूट कतई भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी तथा तिरंगे के नाम पर लूट मचाने वालों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए|

वही एनएसयूआई नेता ने कहाँ की हम तो राष्ट्रीय ध्वज के मर मिट सकते है और हमने पिछले 1 वर्ष से बाल स्कूल मैदान मे प्रसाशन तिरंगा नहीं फहराया गया जो वीर सैनिको और देश का अपमान है उस को देखते हुए एक अभियान शुरू किया था पर कुछ दिनों बाद के कोरोना महामारी के चलते लाकडाउन हो गया, जिसके बाद हम चंदा इकट्ठा ना कर पाए, अन्यथा हमारा यह अभियान पूरे जिला में चलने वाला था, और जो आरोप लगाए जा रहे हैं बदले की भावना से काम किया जा रहा है, क्योंकि यह युवक भी एनएसयूआई का कार्य करता था, उस युवक ने संगठन में कुछ ऐसे काम किए थे जिसके चलते उसको संगठन से निकाला गया था, फिर वे इस तरह के रूपों पर उतर आए.

Related posts

सुजानपुर विधायक राणा का सबसे बड़ा हुनर अपने ही कार्यकर्ताओं को बार-बार पटका पहनाना : भाजपा मंडल

ADM News India

अहंकार न करना, मुख्यमंत्री भी कई बार हारे हैं, हमें भी लगी चोट मंडी पहुंचने पर जीएस बाली ने सीएम जयराम ठाकुर पर साधा निशाना

ADM News India

एक षड्यंत्रकारी तरीके से कुछ उपद्रवी तत्वों की मदद से लाल किला पर झंडा फहराकर किसान आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की:राजेंद्र ज़ार

ADM News India