23/09/2021
HIMACHAL PARDESH

कल रात से 16 मई तक लगा प्रदेश में कर्फ्यू , धारा 144 लागू

हिमाचल से खबर आ रही है कि सरकार ने लॉकडाउन का फैसला ले लिया है।

कल रात से 16 मई तक लगा प्रदेश में कर्फ्यू , धारा 144 लागू

कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने विपक्ष के साथ बैठक की। बैठक में नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, आशा कुमारी , धनीराम शांडिल व माकपा विधायक राकेश सिंघा के साथ बैठक में कोविड हालतों पर चिंतन किया गया। बैठक में विपक्ष ने सरकार को अपनी राय दे दी है। विपक्ष से सुझाव लेने के बाद मंत्रिमंडल की बैठक शुरू हो गई है जिसमें कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन या दूसरी पाबन्दियां लग सकती हैं।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बताया कि प्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे है। स्थिति गंभीर होती जा रही है। मामले तेजी से बढ़ रहे हैं उसी तेजी के मौतों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। जिसको लेकर विपक्ष के नेताओं के सकारात्मक सुझाव आए हैं। विपक्ष के साथ सार्थक चर्चा हुई है। विपक्ष ने कहा है कि वह सरकार के हर फैसले के साथ है। मामले लगातार बढ़ रहे हैं इसलिए शख्ती करने की ज़रूरत है। विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने बताया कि कोरोना के दौर में विपक्ष सरकार के साथ खड़ा है। प्रदेश में एक्टिव मामले 25 हज़ार पहुंच गए हैं। बीते कल रिकॉर्ड 48 लोगों की मौत कोरोना से हुई है। हालात बेकाबू हैं। इस मुश्किल वक़्त में प्रदेश की जनता के हित में जो फ़ैसला सरकार लेगी वह उनको मान्य होगा। जो भी विकल्प है सरकार उनका इस्तेमाल करे लेकिन सरकार यदि लॉक डाउन लगाती है तो कमज़ोर वर्गों को आर्थिक सहायता प्रदान करे। वैक्सीनशन कि तरफ़ सरकार को ज़्यादा ध्यान देने को जरुरत है। हिमाचल के युवा को बचाना जरूरी है।सरकार अस्पतालों की स्थिति सुधारे, मरीजों को बेहतर सुविधाएं प्रदान करें।

उधर, माकपा विधायक राकेश सिंघा हालांकि लॉकडाउन के पक्ष में नहीं रहे। लेकिन आज उनके सुर भी बदले बदले नजऱ आए। सिंघा ने बताया कि इस वक़्त वह सरकार के साथ हैं। लेकिन इस मुश्किल की घड़ी में सरकार मज़दूरों गरीबों की सहायता करे। सरकार डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइंस के हिसाब से आगे बढऩा चाहिए। हर क्षेत्र में कंटेन्मेंट ज़ोन खड़ा करने की ज़रूरत है लेकिन सरकार इसमें अभी सफल नहीं हो पाई है।

हिमाचल प्रदेश कॉंग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा है कि प्रदेश में तेज़ी से बढ़ रहे संक्रमण और इसकी चेन रोकने के लिए लॉकडाउन ही एकमात्र विकल्प है, लेकिन लॉकडाउन लगाने से पहले गरीबों ,मज़दूरों और प्रवासियों को ध्यान में रखे ताकि पिछले लॉकडाउन की तरह उन्हे किसी परेशानी से जूझना ना पड़े। उधर, सर्वदलीय बैठक के बाद कांग्रेस नेता मुकेश अग्रिहोत्री ने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन जैसी सख्ती का फैसला कैबिनेट ही कर सकती है।

Related posts

बढ़ता सकंट -जिला हमीरपुर में 28 लोग और पाए गए कोरोना वायरस संक्रमित

ADM News India

नहीं थम रहा कोरोना का कहर,जिला हमीरपुर में 41 और कोरोना पॉजटिव.

Web1Tech Team

विश्व की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा में कांग्रेस छोड़ शामिल हुए लोगों का स्वागत- धूमल

ADM News India