HIMACHAL PARDESH

तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर की मांगों के लिए एबीवीपी कार्यकर्ता अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद तकनीकी इकाई के कार्यकर्ता तकनीकी विश्वविद्यालय में लाचार स्तिथि व मांगो को पूरा करवाने के लिए "भूख हड़ताल"पर बैठे।

तकनीकी विश्वविद्यालय इकाई अध्यक्ष महेश भारद्वाज ने जानकारी देते हुए बताया कि,” 27 दिसंबर से ईकाई लगातार मांगो के लिए लामबंद है तथा मजबूरन अब विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं को भूख हड़ताल पर बैठना पड़ रहा है लेकिन तकनीकी विवि की मांगों को लेकर प्रदेश की गूंगी बहरी हो चुकी सरकार को न तो छात्रों की समस्याएं दिखाई दे रही हैं न ही आंदोलन कर रहे छात्रों की आवाज सुनाई दे रही है ऐसा लगता है मानो सरकारों को रैलियों व फीसें वसूलने के इलावा कोई काम ही ना हो। तकनीकी वि०वि की वर्तमान स्तिथि की बात करें तो ना ही वि०वि में कुलपति स्थायी है और नाही स्थायी है शिक्षक स्थायी यहाँ तक चपड़ासी भी अस्थाई है जिससे ऐसा लगता है सरकार ने वि०वि तो बना दिया है मगर इसे लाचार छोड़ दिया ना यहां शिक्षा का पता है ना व्यवस्था का केवल फट्टे टांग कर तकनीकी विश्वविद्यालय चलाया जा रहा है ।
एबीवीपी ने  विश्वविद्यालय में स्थाई कुलपति की नियुक्ति और

विवि में स्थाई प्रध्यापकों की नियुक्ति पर तथा विवि को विधानसभा अधिनियम 12 b में शामिल करने पर
,छात्रों से वसूली जाने वाली भारी भरकम फीस को कम किया जाए
सरकार द्वारा विश्वविद्यालय को प्रतिवर्ष कम से कम 50 करोड़ रुपये का अनुदान दिया जाए, छात्रों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने‌ के लिए

विद्यार्थी परिषद ने विश्वविद्यालय में “क्रमिक भूख हड़ताल ” का रास्ता अपनाया।आज तीसरा दिन मे आदित भारद्वाज व शिवम समयाल ईकाई उपाध्यक्ष भूख हड़ताल पर बैठ गए है। पर अभी तक सरकार ने आजतक तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर को नजरअंदाज किया है केवल फंटे टांग कर बिना व्यवस्थाओं व सुविधाओं के तकनीकी विश्वविद्यालय चलाया जा रहा है जोकि छात्रों का शोषण है एक तरफ सरकार नई शिक्षा नीति में तकनीकी शिक्षा देने की बात करती है तो दूसरी तरफ एकमात्र तकनीकी विश्वविद्यालय को भगवान भरोसे छोड़ दिया गया है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

COVID-19

India
Confirmed: 37,122,164Deaths: 486,066