19/10/2021
HAMIRPUR

अभिषेक राणा अपनी बाल अवस्था में बाल हट कर प्रदेश में स्वास्थ्य कर्मियों और प्रदेशवासियों को कर रहे हैं शर्मशार:भाजपा सुजानपुर मंडल

सुजानपुर/
अभिषेक राणा ने आरटीआई का झांसा देकर गलत आंकड़े किए प्रस्तुत जनता व स्वास्थ्य कर्मियों को भी नहीं छोड़ा अपनी ओछी राजनीति के लिए

कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा के पुत्र व हिमाचल प्रदेश कांग्रेस सोशल मीडिया प्रभारी अभिषेक राणा पर गलत जानकारी देने में अपने पिता से भी चार कदम आगे है। अभिषेक राणा ने हाल ही में पीजीआई चंडीगढ़ में इलाज करवाने वाले वासियों की कुछ जानकारियां अपने सोशल आईडी से शेयर की जिसमें हिमाचल के स्वास्थ्य कर्मी व डॉ को यह दर्शाने की कोशिश की कि वह अपने पेशे में नाकाम साबित हो रहे हैं यह बात मंडल अध्यक्ष विरेंद्र ठाकुर मीडिया प्रभारी विनोद ठाकुर भाजपा नेता विक्रम राणा ने कहीं विक्रम राणा ने तंज कसते हुए कहा कि अभिषेक राणा आज भी अपनी बालअवस्था से बाहर नहीं निकले हैं इसलिए वह अपने बालहट में इस तरह के अनाप-शनाप बयान बाजी कर हिमाचल प्रदेश को तो शर्मसार करते ही आ रहे हैं और साथ में ही अब उन्होंने अब स्वास्थ्य कर्मी व डॉक्टरों की काबिलियत पर भी आरोप लगाना शुरू कर दिए हैं।

राजेंद्र राणा के बेटे अभिषेक राणा ने फेसबुक पर आरटीआई को माध्यम बनाते हुए अपनी सोशल आईडी से एक पोस्ट किया झूठा और भ्रमित करने वाला ऐसा सवाल उठा दिया जिससे कि हिमाचल व स्वास्थ्य कर्मी व डॉक्टर तो शर्मसार हो ही रहे परंतु अब उस सवाल पर भी सवाल उठ गया क्योंकि वह सवाल सिर्फ झूठा और भ्रम फैलाने वाला था अभिषेक राणा द्वारा सोशल आईडी फेसबुक लिखा पोस्ट “आज हिमाचल कांग्रेस के सोशल मीडिया विभाग द्वारा इस आरटीआई का खुलासा किया गया जिसमें यह ब्यौरा शामिल है कि हिमाचल से लाखों लोग चंडीगढ़ पीजीआई में रेफर कर दिए जाते हैं“ उसके आगे उन्होंने कुछ आंकड़े लिखे और अंत में लिखा कि “संदेश साफ है कि हिमाचल प्रदेश पूर्णत: एक रेफर प्रदेश बन चुका है।” लेकिन विक्रम राणा ने अभिषेक राणा को आईना दिखाते हुए कहा वह अपने पिता की तरह थर्ड ग्रेड की राजनीति छोड़ दे कम से कम इस राजनीति में स्वास्थ्य कर्मी व डॉक्टरों को निशाना ना बनाएं। स्वास्थ्य सेवा दे रहे सभी कर्मियों ने क कोरोना महामारी में किसी भगवान से कम नहीं आंका जा सकता भाजपा नेता विक्रम राणा ने कहा कि अभिषेक ने सिर्फ भ्रमित करने के लिए आरटीआई संस्था का गलत इस्तेमाल कर प्रदेश की जनता को शर्मसार किया है अभिषेक राणा ने जो आंकड़े प्रस्तुत किए थे अपनी सोशल आईडी पर वह पूरी तरह से गलत है और आरटीआई ने इस प्रकार की कोई आंकड़े जारी नहीं किए है।

2018 से 2021 तक का डाटा
2018 में 2,27,576 मरीज़
2019 में 2,35,657 मरीज़
2020 में 75,407 मरीज़ (लॉक्डाउन में)
2021 (जुलाई तक)- 40,152 मरीज।

Related posts

प्रदेश सरकार कोविड-19 संक्रमण से बचाव व नियंत्रण को उठा रही प्रभावी कदमः राकेश पठानिया

Web1Tech Team

भोरंज के टिक्करी मिन्हासां गांव की बेटी मोनिका मिन्हास ने पास की एन ओ आर सी इ टी की परीक्षा

ADM News India

मार्च में पत्रबम के माध्यम से संस्थान को लेकर फैलाई थी सनसनी, जांच कमेटी की रिपोर्ट के बाद बीओजी ने की कार्रवाई- असिस्टेंट प्रोफेसर ग्रेड-2 सस्पेंशन

ADM News India