HIMACHAL PARDESH

PM ने याद की मंडी की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र

करीब 1ः40 बजे मंच पर संबोधन के लिए पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंडियाली में देवी-देवताओं का आशीर्वाद मांगा। साथ ही सेपू बड़ी व बदाना का जिक्र भी किया। शुरूआत में प्रधानमंत्री ने जय राम सरकार को सफलतापूर्वक चार साल पूरे करने पर बधाई दी। उन्होंने जनता को संबोधन में कहा कि इन चार सालों में आपने हिमाचल को तेजी से आगे बढ़ते देखा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले चार सालों मे कोविड से भी लड़ाई लड़ी गई, साथ ही विकास को भी गति दी गई। उन्होंने कहा कि चंबा व सिरमौर में मेडिकल काॅलेज स्थापित किए गए। कनैक्टिीविटी को बढ़ाने के लिए भी प्रयास जारी है। उन्होंने कहा कि विकास की प्रदर्शनियां देखकर मन अभिभूत हो गया। आज चार बड़े हाइड्रो इलैक्ट्रिकल प्रोजैक्टस के शिलान्यास व उदघाटन किए। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

पीएम ने कहा कि श्री रेणुका जी हमारी आस्था का केंद्र है। भगवान परशुराम की इस भूमि से देश के लिए एक जलधारा निकलेगी। इस परियोजना से जो भी आय होगी, उसका बड़ा हिस्सा भी यहीं के विकास पर खर्च होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों की जीवन शैली में सुधार लाने में बिजली की अहम भूमिका है। उन्होंने कहा कि बिजली के बगैर मोबाइल भी चार्ज नहीं हो सकता।

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र
उन्होंने कहा कि पूरा विश्व इस बात की तारीफ कर रहा है कि कैसे भारत पर्यावरण को बचाकर विकास को नई गति प्रदान कर रहा है। उन्होंने कहा कि देश आज रिन्यूएबल एनर्जी के दोहन का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि 2016 में ये लक्ष्य रखा था कि 2030 तक बिजली की 40 फीसदी खपत को रिन्यूएबल एनर्जी से प्राप्त कर लिया जाएगा। खुशी की बात है इसे नवंबर में पूरा कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक को लेकर भी सरकार गंभीर है। प्रधानमंत्री ने हिमाचल आने वाले पर्यटकों से भी आग्रह किया कि हिमाचल को स्वच्छ रखने में भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि हिमाचल में टूरिज्म के साथ-साथ औद्योगिक विस्तार की भी आपार संभावनाएं हैं। सरकार इस दिशा में भी कार्य कर रही है।

पीएम ने कहा कि हिमाचल में फूड प्रोसेसिंग औद्योगिक इकाईयों की भी प्रबल संभावनाएं हैं। इसको लेकर भी डबल इंजन की सरकार निरंतर कार्य कर रही है। केमिकल मुक्त कृषि उत्पाद आज विशेष आकर्षण का केंद्र बन रहे है। हिमाचल ने प्राकृतिक खेती का रास्ता चुना है, जो खुशी की बात है। हिमाचल के किसान कैमिकलमुक्त खेती की और अग्रसर हैं। उन्होंने देश भर के किसानों को हिमाचल की तर्ज पर कार्य करने का आह्वान किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हिमाचल सबका साथ-सबका विकास के मॉडल पर कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को सबके स्वास्थ्य की चिंता थी, इसलिए दूरदराज के इलाकों में भी वैक्सीन पहुंचाने का कार्य किया गया। जयराम सरकार की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री ने ये भी कहा कि डबल इंजन की सरकार केंद्र सरकार की योजनाओं का भी बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने बेटियों की शादी की उम्र 21 साल करने का निर्णय लिया है। इससे बेटियों को पढ़ने का पूरा समय भी मिलेगा। साथ ही अपना कैरियर भी बना पाएगी। उन्होंने विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनकी प्राथमिकता गरीब की नहीं है, बल्कि अपने परिवारों के कल्याण की होती है। प्रधानमंत्री ने कहा कि 18 से कम उम्र के बच्चों को 3 जनवरी सोमवार से वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू हो जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि हिमाचल भी इस दिशा में बेहतरीन कार्य करेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस समय देश दो विचारधाराओं को देख रहा है। इसमें एक विलंब की है तो दूसरी विकास की। पीएम ने कहा कि विलंब की विचारधारा रखने वालों ने हिमाचल को दशकों तक इंतजार करवाया। इसका उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री ने अटल टनल व श्री रेणुका जी बांध परियोजना का जिक्र किया।

उन्होंने कहा कि बीते 6-7 सालों में जिस तरीके से डबल इंजन की सरकार ने काम किया है, उससे बहनों को भी फायदा मिला है। उन्होंने कहा कि 70 सालों में हिमाचल में महज 7 लाख लोगो ंको पानी का कनेक्शन मिला। भाजपा सरकार ने मात्र दो साल में ही 7 लाख घरों में पानी पहुंचाया।

संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि हिमाचल वीरों की धरती है, अनुशासन की धरती है। यहां के घर-घर में देश की रक्षा करने वाले बेटे-बेटियां हैं। पूर्व फौजियों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वन रैंक-वन पैंशन को भी मंजूरी दी। उन्होंने कहा कि पंच पर्यटन व तीर्थाटन का एक संगम है। पांच कैलाशों में से तीन हिमाचल में हैं। इसके अलावा भी कई शक्तिपीठ हैं।प्रधानमंत्री ने कहा कि इस समय देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है तो हिमाचल पूर्ण राज्यत्व दिवस की स्वर्ण जयंती मना रहा है। लिहाजा, ये समय कुछ खास करने का है।प्रधानमंत्री ने भारत माता की जयघोष के साथ अपना संबोधन समाप्त किया।

ये बोले जयराम ठाकुर….
भारत माता के जयघोष के साथ मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब प्रधानमंत्री हिमाचल आते हैं तो अपनेपन का अहसास होता है। उन्होंने प्रधानमंत्री को जून-2022 में एम्स बिलासपुर (AIIMS Bilaspur) के उदघाटन का भी निमंत्रण दिया। सीएम ने कहा कि एम्स की ओपीडी (OPD) शुरू हो चुकी है। उन्होंने कहा कि केंद्र की बदौलत आज हिमाचल जैसे छोटे राज्य को भी एम्स मिला है। उन्होंने कहा कि हम वो क्रम भी तोड़ने की कोशिश करेंगे, जिसमें सरकार रिपीट नहीं होती। सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 2022 में दोबारा भाजपा की सरकार बनेगी।

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को संबोधित करते हुए कहा कि आज आप हिमाचल (Himachal) में सैंकड़ों लोगों को नाम से पुकार सकते हैं। पार्टी के कार्यकर्ताओं से बात करते हैं। उन्होंने कहा कि मंडी देवभूमि का एक ऐसा स्थान है, जिसे छोटी काशी कहा जाता है। उन्होंने कहा कि बड़ी काशी के सांसद आप है। उन्होंने कहा कि हाल ही मे व्यक्तिगत तौर पर काशी का बदला हुआ रूप देखा है। सीएम ने कहा कि पड्डल मैदान से उनकी काॅलेज की यादें जुड़ी हुई हैं।

उन्होंने कहा कि मंडी में बनने वाला शिवधाम धार्मिक व पर्यटन का केंद्र होगा। उन्होंने कहा कि हिमाचल में ये भी इतिहास बना है कि कोई प्रधानमंत्री एक दिन में एक जगह से 11 हजार करोड़ के शिलान्यास व उदघाटन कर रहा है। सीएम ने कहा कि श्री रेणुका बांध परियोजना (Sri Renuka Dam Project) 1993 से लंबित थी। खुशी की बात है कि आपने हमारे निवेदन पर इसकी अंतिम मंजूरी दी, साथ ही आज ही इसका शिलान्यास कर रहे हैं। सीएम ने कहा कि हम उस पल को नहीं भूल सकते, जब आप हमारे शपथ ग्रहण समारोह में आए थे। एक साल पूरा होने पर भी आप धर्मशाला (Dharmshala) में आए थे।

चार साल पूरा होने पर भी आज हमारे बीच मौजूद हैं। इसके लिए भी हम आपका धन्यवाद करते हैं। सीएम ने कहा कि हमारा प्रयास है कि गरीब व्यक्ति की हर कदम पर मदद करें। इसके लिए केंद्र सरकार (Central government) ने कई योजनाएं चलाई हुई हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल में 1 लाख 16 हजार लोगों का उपचार आयुष्मान भारत के तहत हो रहा है। सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री हिम केयर योजना के तहत 2 लाख 20 हजार लोगों का इलाज किया गया है। मुख्यमंत्री ने सरकार की अलग-अलग योजनाओं का भी जिक्र किया।

सीएम ने कहा कि हिमाचल देश का पहला राज्य है, जहां हर घर में गैस का चूल्हा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि आज इस मंच पर दो विभूतियों के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल मौजूद हैं, जिनकी बदौलत आज अटल टनल बनी है।

राज्य सरकार ने चार साल का कार्यकाल पूरा करने पर ‘हिमाचल में सेवा और सिद्धि’ के चार साल समृद्धि का नारा भी दिया है। केंद्रीय मंत्री के संबोधन के बाद हिमाचल की उपलब्धियों को लेकर एक चलचित्र भी प्रदर्शित किया गया।

मोदी ने बढ़ाया जयराम ठाकुर का कद…
रैली के दौरान उप चुनाव हारने की कोई टीस नहीं थी। करीब 35 से 40 मिनट के संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई मर्तबा जयराम सरकार का जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने सीएम के अभिभाषण की कई बातों का समर्थन भी किया। रैली में साफ तौर पर ये जाहिर हुआ कि प्रधानमंत्री व केंद्रीय आलाकमान की हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर पूरी अनुकंपा है। प्रधानमंत्री बार-बार जयराम सरकार को डबल इंजन वाली सरकार कहकर संबोधित करते रहे।

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र
पीएम का स्वागत करते राज्यपाल, CM व केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर
ये बोले अनुराग ठाकुर….
मंच पर संबोधन के लिए सबसे पहले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर (Union Minister Anurag Thakur) को आमंत्रित किया गया। उन्होंने कहा कि छोटी काशी के 85 मंदिरों के देवी-देवता जहां प्रधानमंत्री को साधुवाद दे रहे हैं, वहीं जनता से आग्रह किया कि वो खड़े होकर प्रधानमंत्री का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मोदी है तो मुमकिन है। अनुराग ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री ने विरासत को सहेजने के साथ-साथ विकास की नई गाथा लिखी है।

उन्होंने कहा कि मोदी जी बिन मांगे ही देते हैं। उन्होंने हिमाचल को इतना कुछ दिया है कि आज तो केवल उनका धन्यवाद करना चाहते हैं। केंद्रीय मंत्री ने चार साल पूरा करने पर जयराम सरकार को बधाई दी। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री ने केंद्र की मदद से हिमाचल को मिले विकास कार्यों की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने 140 करोड़ भारतीयों को निशुल्क कोरेाना वैक्सीन लगवाई, जबकि जयराम सरकार ने दोनों डोज लगाने को लेकर लक्ष्य पूरा कर दिखाया।

पंडाल में पहुंचते ही प्रधानमंत्री का इस्तकबाल जोरदार नारों से किया गया

मंच पर भारत माता के उदघोष के साथ प्रधानमंत्री का स्वागत हुआ। प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर व केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर व पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, पार्टी अध्यक्ष सुरेश कश्यप, सांसद कृष्ण कपूर, राज्यसभा सांसद इंदू गोस्वामी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को टोपी पश्मीना शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया। इस दौरान शिव स्तुति के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक विशाल त्रिशूल भी भेंट किया गया।

प्रधानमंत्री करीब पौने 12 बजे के आसपास कांगनीधार हैलीपैड (helipad) पर उतरे। इसके बाद पीएम का काफिला सीधे ही प्रदर्शनी स्थल पर पहुंचा। प्रधानमंत्री ने 11 विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का बारीकी से अवलोकन (Observation) किया। बता दें कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए धरती से आसमान तक सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। प्रदर्शनी के बाद प्रधानमंत्री ने 23 हजार करोड़ की ग्राऊंड ब्रेकिंग सेरेमनी (ground breaking ceremony) में भी हिस्सा लिया। इसके बाद ही वो जनसभा के मंच पर पहुंचे।

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र
ये शिलान्यास व उदघाटन….
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करीब 7 हजार करोड़ की लागत से बनने वाली श्री रेणुका जी परियोजना का शिलान्यास वर्चुअली किया। निर्माण स्थल श्री रेणुका जी में भी इस समारोह को लेकर हिमाचल प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (Himachal Pradesh Power Corporation Limited) द्वारा विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया था। बता दें कि ये योजना लगभग 30 साल से लंबित थी। इस परियोजना से देश की राजधानी दिल्ली को हर साल लगभग 500 से 600 मिलियन क्यूबिक पानी की आपूर्ति होगी।

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने वर्चुअली (virtually) ही शिमला की पब्बर नदी पर निर्मित 111 मैगावाट की सावड़ा-कुड्डू बिजली योजना का लोकापर्ण भी किया गया। इस पर 2 हजार 82 करोड़ की राशि खर्च की गई है। प्रधानमंत्री ने 66 मैगावाट की धौलसिद्ध विद्युत परियोजना (Dhaulsiddha Power Project) का भी शिलान्यास किया। इस निर्माण कार्य पर 700 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जानी है। सावड़ा-कुड्डू परियोजना की खास बात ये है कि डैम का डिजाइन वाद्ययंत्र पियानों की तरह है। समूचे एशिया में अपनी तरह का यह पहला डैम है। इससे हिमाचल को 120 करोड़ का राजस्व प्राप्त होगा। ग्राऊंड ब्रेकिंग सेरेमनी के दौरान मोदी ने चुनिंदा पूंजी निवेशकों से भी बात की।

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र
खिली धूप…
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान मौसम काफी खुशगवार रहा। हालांकि, पहले पूर्वानुमान के मुताबिक 27 दिसंबर को बारिश व बर्फबारी की संभावना जताई गई थी, लेकिन मौसम खुशगवार रहने के कारण सरकार ने भी सुकून की सांस ली। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मीडिया से बातचीत के दौरान ये भी कहा था कि मौसम साफ होने को लेकर उन्होंने देवी-देवताओं से भी प्रार्थना की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x

COVID-19

India
Confirmed: 37,122,164Deaths: 486,066